Saturday, 24 March 2018

दीपक जलाने के वैज्ञानिक फायदे

दीपक जलाने के वैज्ञानिक फायदे

दीपक को ज्ञान और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है।
शास्त्रों में भी दीपक जलाने के महत्व बताया गया है।
दीपक घर से बीमारियों को दूर करनें में भी बहुत मदद करता है।
जानकारों के अनुसार दीपक जलाने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी है।
दीपक जलाने के पीछे यह वैज्ञानिक तर्क दिया जाता है कि इससे सारे रोगाणु भाग जाते हैं।



दीपक जलाने से आसपास प्रदूषण मुक्त का भी वातावरण बना रहता है।
दीपक जलाने से धुंआ निकलता है। लेकिन आप ये बात नहीं जानते होंगे कि घी या तेल से जलने से निकलने वाला धुंआ घर के लिए प्यूरीपायर का काम करता है। इसके साथ ही इस धुएं से निकलने वाली सुंगध वातावरण में मौजूद हानिकारक कणों को मार देती है।
अगर आपने तेल का दीपक जलाया है, तो इससे दीपक का असर आधा घंटे बाद बुझने के बाद भी वातावरण में रहता है। वहीं घी का दीपक जलाने से वातावरण में इसका असर 4 घंटे तक रहता है।जिससे आपके आसपास का वातावरण सात्विक बनाता है। जो कि अस्थमा रोगियों के लिए काफी फायदेमंद है।
अगर आपके घर में उदासीनता वाली तरंगे होगी, तो ये धुंआ वह खत्म कर देता है।
अगर आप दीपक में एक लौंग डाल देते है, तो इसका असर दोगुना बढ़ जाता है। अगर घी में लौंग डाला है, तो चर्म रोग से आपको निजात मिल जाएगा।
घी का दीपक जलाने से आपके घर शुद्ध, पवित्र हो जाता है। जिससे बीमारी होने की आशंका कई गुना कम हो जाती है।
वास्तु के मुताबिक, दीपक जलाने के बाद उसे ऐसे रखें कि दीपक की लौ पूर्व दिशा की ओर रखें। इससे आयु बढ़ती है।
दीपक को घी से ही जलाने के पीछे मानवीय शारीरिक चक्रों का भी महत्व है। ऐसा माना जाता है कि मानव शरीर में सात चक्रों का समावेश होता है। यह सात चक्र शरीर में विभिन्न प्रकार की ऊर्जा को उत्पन्न करने का कार्य करते हैं। यह चक्र मनुष्य के तन, मन एवं मस्तिष्क को नियंत्रित करते हैं।
सात चक्रों के अलावा मनुष्य के शरीर में कुछ ऊर्जा स्रोत भी होते हैं। इन्हें नाड़ी अथवा चैनेल कहा जाता है। इनमें से तीन प्रमुख नाड़ियां है  चंद्र नाड़ी, सूर्य नाड़ी तथा सुषुम्ना नाड़ी। शरीर में चंद्र नाड़ी से ऊर्जा प्राप्त होने पर मनुष्य तन एवं मन की शांति को महसूस करता है।
गाय के घी में रोगाणुओं को भगाने की क्षमता होती है। यह घी जब दीपक की सहायता से अग्नि के संपर्क में आता है तो वातावरण को पवित्र बना देता है। इसके जरिये प्रदूषण दूर होता है।

1 comment:

  1. The proliferation of rogue operators of remote betting sites is one side that makes avid local gamblers cautious of on-line gambling. Yet in South Korea, this concern has been provided with a solution by suppliers of a service identified as|often identified as} eat and run verification. The proposed technologies can exchange current methodologies, that are typically depending on handbook 영앤리치 토토 reporting, to quickly and precisely classify roughly 27,000 spam messages which are be} despatched to KISA every day. In particular, the system proposed on this paper can provide a URL pool to quickly block unlawful gambling sites based mostly on compiled spam SMS actions.

    ReplyDelete